For the best experience, open
https://m.khabardevbhoomi.com
on your mobile browser.
Advertisement

बिलकिस बानो को सुप्रीम कोर्ट से झटका, खारिज हुई याचिका

02:37 PM Dec 17, 2022 IST | Khabar Devbhoomi Desk
बिलकिस बानो को सुप्रीम कोर्ट से झटका  खारिज हुई याचिका
Advertisement

बिलकिस बानो bilkis banoसुप्रीम कोर्ट ने शनिवार को बिलकिस बानो की ओर से दायर पुनर्विचार याचिका को खारिज कर दिया, जिसमें 2002 में उसके साथ सामूहिक बलात्कार और उसके परिवार के सदस्यों की हत्या के लिए दोषी ठहराए गए 11 लोगों की जल्द रिहाई को चुनौती दी गई थी।

Advertisement

बता दें कि मामले में 2008 में दोषी ठहराए गए 11 लोगों को 15 अगस्त को गोधरा उप-जेल से उस वक्त रिहा कर दिया गया था, जब गुजरात सरकार ने अपनी छूट नीति के तहत उनकी रिहाई की अनुमति दी थी।

घटना के वक्त 5 महीने की प्रेग्नेंट थी बिलकिस बानो

गुजरात में गोधरा ट्रेन जलाने की घटना के बाद भड़के दंगों से भागते समय 21 साल की बिलकिस बानो पांच महीने की गर्भवती थी। आरोप है कि उस दौरान उनके साथ सामूहिक बलात्कार किया गया था। मारे गए परिवार के सात सदस्यों में उनकी तीन साल की बेटी भी शामिल थी।

Advertisement

दोषियों को क्यों रिहा किया गया?

इस मामले के दोषियों में से एक ने 9 जुलाई, 1992 की नीति के तहत समय से पहले रिहाई के लिए उसके आवेदन पर विचार करने के लिए गुजरात राज्य को निर्देश देने के लिए भारत के सर्वोच्च न्यायालय का रुख किया था, जो उसकी सजा के समय मौजूद था।

सुप्रीम कोर्ट ने तब गुजरात सरकार को निर्देश दिया कि वह आवेदन पर विचार करे क्योंकि छूट या समय से पहले रिहाई सहित सभी कार्यवाहियों पर नीति के संदर्भ में विचार किया जाना था जो गुजरात राज्य में लागू है।

बिलकिस बानो केस क्या है? गुजरात सरकार ने गैंगरेप और हत्या के आरोपियों को रिहा कर दिया

जल्दी रिहाई को चुनौती देने वाली याचिकाओं के जवाब में, गुजरात सरकार ने एक हलफनामा दायर कर SC को सूचित किया कि 11 दोषियों को उनके अच्छे व्यवहार और केंद्र सरकार की मंजूरी के बाद जेल में 14 साल पूरे करने के बाद रिहा किया गया था।

बिलकिस बानो केस

घटना 3 मार्च 2002 की है। गुजरात का गोधरा (Godhra) दंगों की आग में जल रहा था। दंगाइयों ने बिलकिस बानों के घर पर हमला कर दिया। बिलकिस बानो उस समय पांच महीने की गर्भवती थीं। दंगाईयों की भीड़ बिलकिस के दाहोद जिले के लिमखेड़ा तालुका के रंधिकपुर गांव स्थित घर में घुसी और निर्ममता से उसकी आंखों के सामने ही पूरे परिवार को खत्म कर दिया। दंगाईयों का जी यहीं नहीं भरा, उन्होंने बिलकिस के साथ हैवानियत की। उसके साथ एक-एक करके कई लोगों ने गैंगरेप किया। वह दर्द से तड़पकर बेहोश हो गई। होश आया तो न्याय के लिए लंबी कानूनी लड़ाई लड़ी। बिलकिस बानो के साथ जब ये हैवानियत हुई तो उनकी उम्र 21 साल की थी।


हमारे Facebook पेज को लाइक करें और हमारे साथ जुड़ें। आप हमें Twitter और Koo पर भी फॉलो कर सकते हैं। हमारा Youtube चैनल सब्सक्राइब करने के लिए यहां क्लिक करें – Youtube


 

Advertisement
Tags :
Advertisement